stadium for wrestling is being built in pritampuri, wrestling stadium in pritampuri, wrestling stadium in thoi, wrestling stadium in sikar, wrestling stadium in rajasthan, sports stadium

stadium for wrestling is being built in pritampuri

प्रीतमपुरी में बन रहा है कुश्ती के लिए स्टेडियम 


भामाशाहों के सहयोग से गांव‎ प्रीतमपुरी के बालाजी मंदिर परिसर‎ में कुश्ती के लिए 20 लाख रुपए‎ की लागत से स्टेडियम बनाया जा‎ रहा है।

यहां क्षेत्र के पहलवान‎ अभ्यास कर सकेंगे और मेले का‎ समय कुश्ती का आयोजन भी किया जाएगा। 60 गुना 80 फीट क्षेत्रफल‎ में बन रहे स्टेडियम में लोगों के‎ बैठने के लिए सिटिंग रैंप भी बनाए‎ जा रहे हैं।

सिटिंग रैंप पर 15‎ सीढ़ियां बनाई जा रही हैं। सीढ़ियों‎ पर मार्बल तथा सीढ़ियों के दोनों‎ तरफ रेलिंग लगाई जाएगी। इससे‎ लोग आसान से बैठकर कुश्ती देख‎ सकेंगे।

यह काम सरपंच जगदीश‎ सोलेत के सानिध्य में उनकी प्रेरणा‎ से करवाया जा रहा है।‎ सरपंच ने बताया कि गांव के‎ भामाशाहों को प्रेरित किया और‎ उनसे स्टेडियम में सहयोग करने‎ की अपील।

इस पर भामाशाहों ने‎ पूर्ण सहयोग किया और स्टेडियम‎ लगभग बन कर तैयार हो गया‎ जिसका उद्घाटन मेले पर होगा।‎ स्टेडियम पर करीब 20 लाख‎ रुपए खर्च किए जा रहे हैं।

इससे‎ पहले इसका बजट करीब 12‎ लाख 50 हजार रुपए था। लेकिन‎ स्टेडियम में और काम होने के‎ कारण बजट और बढ़ गया।‎

स्थानीय भामाशाह के साथ-साथ‎ बाहर के भामाशाह से भी‎ स्टेडियम के लिए पैसा एकत्रित‎ किया। पचास हजार रुपए से कम‎ किसी भी भामाशाह से नहीं लिया।‎ कुछ भामाशाहों ने दो लाख रुपए‎ भी दिए।‎

सरपंच ने बताया कि हर वर्ष होली के पांचवें दिन बालाजी का‎ मेला भरता है। मेले में मुख्य आकर्षण कुश्ती होता है। इसे देखने‎ के लिए आस-पास के हजारों ग्रामीण एकत्रित होते हैं।

लेकिन‎ कुश्ती देखने के लिए उन्हें बैठने की जगह नहीं मिल पाती थी।‎ जिसके कारण बिना दंगल देखी ही लोग लौट जाते थे। इसलिए‎ स्टेडियम बनवाने का विचार आया। इसके लिए पंचायत की‎ बैठक में चर्चा की गई।

उसके बाद ग्रामीणों से भी चर्चा की और‎ एक ठेकेदार से आइडिया लेकर रुपए जुटाना में लग गए।‎ धीरे-धीरे 20 लाख रुपए एकत्र हो गए।‎

स्टेडियम में भामाशाहों के नाम से पत्थर लगवाएंगे


स्टेडियम में भामाशाहों के नाम से पत्थर लगवाएंगे‎ सरपंच ने बताया कि 22 मार्च में स्टेडियम का लोकार्पण किया‎ जाएगा और भामाशाहों का सम्मान किया जाएगा।

शिलापट्ट पर‎ राजनेताओं के नाम लिखे जाते थे लेकिन स्टेडियम के‎ उद्घाटन के वक्त स्टेडियम की दीवारों सहयोग देने वाले‎ भामाशाहों का नाम लिखा जाएगा।

मेले पर उन्हें सम्मानित‎ किया जाएगा। अब तक स्टेडियम बनवाने में 13 भामाशाहों ने‎ सहयोग किया है और भी भामाशाहों से सहयोग के लिए संपर्क‎ किया जा रहा है।‎

Source - Dainik Bhaskar
Link - https://epaper.bhaskar.com/detail/926209/95108298016/rajasthan/07022022/424/image/