add your listing

 

User Rating: 5 / 5

Star ActiveStar ActiveStar ActiveStar ActiveStar Active
 

stepwell shrimadhopur

क्यों नहीं है मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना में धरोहर का नाम
Why does Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana not contain the heritage

श्रीमाधोपुर की प्राचीन बावड़ी जिसे सीताराम बाबा की बावड़ी के नाम से भी जाना जाता है, आज श्रीमाधोपुर वासियों द्वारा ही उपेक्षित हो रही है। लगभग 250 वर्ष पुरानी यह बावड़ी किसी समय अत्यंत भव्य रही है परन्तु आज यह अपनी बदहाली पर आँसू बहा रही है और श्रीमाधोपुर वासी उदासीन होकर इसे अनदेखा कर रहे हैं तथा इसे कूड़ादान बनाकर प्रसन्न हो रहे हैं। हमारे जिन पूर्वजों ने इस बावड़ी का निर्माण करवाया था क्या इसकी दुर्दशा देखकर उनकी आत्माएँ प्रसन्न होंगी। कहने को तो बहुत नामी गिरामी लोग श्रीमाधोपुर में रहते हैं परन्तु ऐसा लगता है कि जैसे सभी ने इस विरासत को नेस्तनाबूद करने की मूक सहमती दे रखी है।

मुख्यमंत्री जन स्वावलंबन योजना के अंतर्गत राजस्थान के अनेक ग्रामीण क्षेत्रों की अनेक बावडियों का संरंक्षण तथा पुनर्निर्माण हुआ है फिर यह भव्य बावड़ी उपेक्षित क्यों है? क्या यह राजनेताओं तथा नागरिकों की उदासीनता का जीवंत सबूत नहीं है? इस सम्बन्ध में न नगरपालिका स्तर पर और न ही विधानसभा स्तर किसी का ध्यान है। आरटीआई से प्राप्त जानकारी के अनुसार नगरपालिका की इस बावड़ी के सम्बन्ध में किसी प्रकार की कोई भी योजना नहीं है।

bawadi shrimadhopur

विरासत के नाम पर श्रीमाधोपुर वासियों के पास एकमात्र यही बावड़ी ही है जिसका जिक्र राजस्थान सरकार द्वारा प्रकाशित पत्रिका सुजस के सितम्बर 2017 अंक के पेज नंबर 49 पर भी है। अगर हम अपनी इस विरासत को नहीं बचा पाते हैं तो फिर किसी का भी प्रभावशाली होना किसी काम का नहीं है। अपनी विरासत का संरक्षण एक सभी समाज की प्रथम प्राथमिकता होती है तथा हमारी भी यही होनी चाहिए। विरासत के लिए लोग अपने जीवन को दाव पर लगा देते हैं तो क्या हम थोडा बहुत समय भी नहीं लगा सकते हैं।

श्रीमाधोपुर डॉट कॉम ने अपने स्तर पर इस कार्य को कर रहा है तथा बहुत हद तक इसमें सफलता पाई भी है और उम्मीद करते हैं कि वह दिन दूर नहीं होगा कि जब यह बावड़ी अपने पुराने स्वरुप में लौट आएगी। परन्तु फिर भी सम्मिलित प्रयास आवश्यक है क्योंकि संगठन में शक्ति होती है। हम लोगों को शायद यह समझ में ही नहीं आ रहा है कि इस बावड़ी के नष्ट हो जाने से हम क्या खों देंगे। अतः वे सभी लोग जो इस सम्बन्ध में कुछ कर सकते हैं सक्रिय रूप से अपना प्रयास करें तथा इस धरोहर को बचाने में सहयोग दें।

Why does Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana not contain the heritage

rajputana news