add your listing

 

User Rating: 5 / 5

Star ActiveStar ActiveStar ActiveStar ActiveStar Active
 

mohar singh kharra shrimadhopur

मोटरसाइकिल द्वारा श्रीमाधोपुर से वैष्णो देवी की यात्रा
Shrimadhopur to Vaishno Devi journey by motorcycle

श्रीमाधोपुर। अगर व्यक्ति के हौसले बुलन्द हो तो लक्ष्य दूर नहीं है, मन में लगन व पक्के इरादे लेकर आगे बढ़ने वाला व्यक्ति मंजिल तक पहुँचता ही है, ऐसा ही जज्बा रखने वाली शख्सियत का नाम है महात्मा गाँधी महाविद्यालय के निदेशक मोहर सिंह खर्रा। खर्रा ने अनेकों बार माता वैष्णो देवी के दर्शनों की ठानी लेकिन हर बार कोई न कोई कारण आड़े आ गया।

गत गुरूवार शाम को खाना खाकर सोने चले गए। रोज की भाँती सुबह चार बजे उठे व पत्नी को जगाकर कहा कि मैं वैष्णो माता के दर्शन करने जा रहा हूँ। पत्नी गीता खर्रा ने मजाक समझा और कह दिया कि ठीक है जाओ, माता रानी आपकी यात्रा सफल करे।

खर्रा ने सवा चार बजे अपनी इनफील्ड बाईक उठाई व कटरा के लिए रवाना हो गए तथा 870 किलोमीटर की दूरी बिना रूके सवा चौदह घंटों में तय कर शाम को साढे छ बजे कटरा पहुँच गए। वहाँ एक होटल में कमरा लेकर रात्री विश्राम किया तथा सुबह दो बजे उठकर माता की पैदल यात्रा कर सवा सात बजे माता के दर्शन किए।

खर्रा ने बताया कि माता रानी के बुलावे के बिना वहाँ जाना दुर्लभ है। दर्शन कर वापस लौटते समय गुरूनानक जयंती पर अमृतसर में स्वर्ण मंदिर में दर्शन कर लंगर में प्रसाद पाया व श्रीमाधोपुर के लिए रवाना हुए। हनुमानगढ़ में रात्री विश्राम करने के बाद रविवार दोपहर सवा बजे श्रीमाधोपुर पहुँचे।

News provided by:

Govind Saini

govind saini

 

 

 

 

Shrimadhopur to Vaishno Devi journey by motorcycle

rajputana news